HIV Full Form in Hindi

HIV Full Form in Hindi | एचआईवी फुल फॉर्म इन हिंदी

Spread the love
HIV Full Form in Hindi
HIV Full Form in Hindi

HIV Full Form in Hindi: दोस्तों आज हम आपको इस लेख में HIV की फुल फॉर्म के साथ इस वायरस के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। जिससे आपके मन में HIV या AIDS से सम्बंधित कोई भी सवाल बाकि न रहे। HIV का नाम सुनते ही लोगों के होश उड़ जाते है। जिसका कारण इस बीमारी का लाइलाज होना है। हर बड़ी बीमारी जैसे कैंसर तक का इलाज चिकित्सा विज्ञान में उपलब्ध है।

लेकिन यही एक ऐसी बीमारी है। जिसका ईलाज ख़ोजने में अभी भी साइंटिस्ट लगे हुए है। पूरी दुनिया में एड्स की जागरूकता को लोगों में फ़ैलाने के लिए 1 December को एड्स दिवस के रूप में मनाया जाता है।

HIV Full Form in Hindi | एचआईवी फुल फॉर्म इन हिंदी

एचआईवी का फुल फॉर्म हिंदी में है ह्युमन इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस (Human immunodeficiency virus). कोई व्यक्ति यदि HIV पॉजिटिव होता है तो इसका मतलब यह है की उस व्यक्ति में यह HIV वायरस आ चूका है। इस वायरस का मुख्य काम होता है की यह व्यक्ति के शरीर के immune system यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता को प्रभावित करता है।

जिससे कोई भी रोग बड़ी आसानी से HIV संक्रमित व्यक्ति को लग जाता है। इसी के कारण व्यक्ति की मौत हो जाती है। बहुत से व्यक्ति HIV और एड्स को एक ही समझ लेते है तो हम आपको यह बता दे की HIV एक virus है। जब यह शरीर में प्रवेश करता है तो शरीर अलग़ अलग़ चार स्टेज से गुजरता है।

जिसकी आख़िरी स्टेज को AIDS कहा जाता है। जिसका फुल फॉर्म अक्वायर्ड इम्युनोडेफिशिएंसी सिंड्रोम (Acquired Immunodeficiency Syndrome) होता है। एड्स की स्टेज पर व्यक्ति को बचाना बहुत मुश्किल होता है। इस स्टेज पर पता लगने पर व्यक्ति केवल 1 साल ही जिन्दा रह पाता है।

HIV Kaise Hota Hai | HIV कैसे होता है ?

HIV Kaise Hota Hai
HIV Kaise Hota Hai

HIV होने की कुछ ख़ास वजह होती है। जिससे यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। इसलिए एचआईवी से बचने के लिए इन सबसे बचना चाहिए। HIV होने के कुछ कारण इस प्रकार है।

  • HIV संक्रमित माता से यह बच्चे को फ़ैल सकता है। जब बच्चा पेट में होता है तब यह बच्चे को हो सकता है या प्रसव के दौरान बच्चे को हो सकता है अथवा दूध पिलाने के दौरान भी संक्रमित माँ से बच्चे को हो सकता है।
  • यदि कोई व्यक्ति HIV positive हो तो उस व्यक्ति के साथ असुरक्षित यौन सम्बन्ध स्थापित करने पर यह दूसरे व्यक्ति को हो सकता है। इसलिए असुरक्षित सम्बन्ध बनाने से बचने की सलाह दी जाती है।
  • किसी एचआईवी संक्रमित व्यक्ति का ख़ून किसी दूसरे व्यक्ति को चढ़ाने से भी यह हो सकता है।
  • यदि कोई सीरिंज HIV संक्रमित व्यक्ति के द्वारा प्रयोग की गयी हो उस सीरिंज का प्रयोग अनजाने में दूसरा व्यक्ति कर ले तो उस व्यक्ति को भी यह वायरस हो सकता है। इसलिए हमेशा नई सिरिंज के इस्तेमाल के लिए बताया जाता है।

HIV Ke Lakshan Kya Hote Hain | एचआईवी के लक्षण क्या होते है ?

HIV की मुख्य चार स्टेज होती है। HIV संक्रमण की जांच के लिए ELISA टेस्ट को किया जाता है। इसकी शुरुवाती पहली स्टेज में कोई लक्षण दिखाई नहीं होते। यह HIV वायरस होने के पहले 1 महीने का समय होता है। इसके बाद दूसरी स्टेज शुरू होती है। इसमें संक्रमित व्यक्ति को कुछ ख़ास लक्षण नज़र आते है। जिनमे शरीर में दर्द होना, बुखार होना, फोड़े फुंसी होना और गले में ख़राश होना शामिल है। दूसरी स्टेज भी 1 महीने तक चलती है।

HIV की तीसरी स्टेज में कुछ लक्षण दिखाई भी दे सकते है और नहीं भी। यह स्टेज सबसे लम्बी स्टेज होती है। जो 2 week से 10 से 20 साल तक रहती है।

HIV की चौथी या आख़िरी स्टेज को AIDS(एड्स) कहा जाता है। इस स्टेज में पहुंचने पर व्यक्ति के जीवन का बहुत थोड़ा समय ही बाकी रहता है। इस स्टेज में यह वायरस शरीर में बहुत फ़ैल चूका होता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक कोशिकाओं को पूरी तरह से विफ़ल कर देता है। जिससे छोटा मोटा मौसमी ख़ासी बुखार भी जानलेवा साबित होता है।

HIV Ka Ilaj | एचआईवी का इलाज की नई खोज 2021

जैसा हमने आपको पहले भी बताया की HIV का कोई इलाज नहीं है। इस वायरस से संक्रमित होने पर doctor व्यक्ति को रोग प्रतिरोधक दवाई देते है क्योंकि यह वायरस मुख्य रूप से व्यक्ति के immune system को ही ख़राब करता है। डॉक्टर द्वारा HIV के इलाज के लिए एंटी-रेट्रोवायरल विधि को अपनाया जाता है।

जब शुरुवात में व्यक्ति के HIV संक्रमित होने का पता चलता है तो एंटी-रेट्रोवायरल इलाज से रोगी के जीने के वर्षों को बढ़ाया जाता है। इससे व्यक्ति बिना ईलाज वाले व्यक्तियों से 5 से 10 साल अधिक जी पाता है। लेकिन HIV वायरस को खत्म नहीं किया जा सकता यानी व्यक्ति की मृत्यु को रोका नहीं जा सकता। एलोपैथी के साथ अभी आयुर्वेदिक ईलाज की ओर भी लोगों का रुझान होने लगा है।

FAQ (Frequently Asked Questions)

HIV के लक्षण कितने दिनों में दीखते है ?

HIV के शुरुवाती लक्षण 20 से 25 दिनों में दिखने शुरू हो जाते है।

एच आई वी कैसे होता है?

एच आई वी संक्रमित व्यक्ति का ख़ून दूसरे व्यक्ति को चढाने, असुरक्षित संबंध बनाने और संक्रमित माँ से शिशु को होता है।

एड्स का पता कब चलता है?

एड्स का पता एलिसा टेस्ट करवाने से चलता है।

Final Words:

दोस्तों हम उम्मीद करते है की आपको हमने HIV Full Form in Hindi, HIV Kaise Hota Hai, HIV Ke Lakshan Kya Hote Hain और HIV Ka Ilaj से सम्बंधित सारी जिज्ञासा दूर करी होगी। आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर करके उनकी HIV के बारे में जानकारी बढ़ा सकते है। यदि आपका अभी भी कोई सवाल छूट गया है तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते है।

Read more:

America Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab Ki Thi | अमेरिका की ख़ोज किसने की थी और कब की थी

Fastag Recharge Kaise Kare in Hindi | फास्टैग रिचार्ज कैसे करे हिंदी में

Washing Machine Ka Avishkar Kisne Kiya Tha | वाशिंग मशीन का अविष्कार किसने और कब किया था

Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab Ki Thi | Vitamin Kitne Prakar Ke Hote Hain

2 thoughts on “HIV Full Form in Hindi | एचआईवी फुल फॉर्म इन हिंदी”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *